Breaking News

         

Home / सिवान / सिवान : सरकार द्वारा नियोजित शिक्षकों का सेवाशर्त व वेतन बढ़ोतरी की अभी तक घोषणा नहीं करने से शिक्षकों में रोष

सिवान : सरकार द्वारा नियोजित शिक्षकों का सेवाशर्त व वेतन बढ़ोतरी की अभी तक घोषणा नहीं करने से शिक्षकों में रोष

अमित/सिवान : बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति की आह्वान पर लगभग तीन माह तक चले अनिश्चितकालीन हड़ताल के बीच कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में शिक्षकों के सहयोग की आवश्यकता को देखते हुए बिहार सरकार द्वारा समिति के संयोजक ब्रजनंदन शर्मा से बात कर की कोरोना महामारी की स्थिति सामान्य होने के बाद शिक्षक संगठनों से बात कर उनकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा इसका लिखित आश्वासन दिया गया तथा सरकार शिक्षकों से तब तक हड़ताल वापस लेकर इस वैश्विक महामारी में सरकार का सहयोग करने की बात कही गई। शिक्षकों ने भी आश्वासन के बाद हड़ताल से वापस आकर पूर्ण मनोयोग से इस वैश्विक महामारी में सरकार का पूर्ण सहयोग किया। सरकार द्वारा शिक्षकों की जहाँ ड्यूटी लगाई गई शिक्षकों ने अपनी जान की परवाह किये बिना उस कार्य में सरकार का सहयोग किया। कोई व्यवस्था उपलब्ध नही होने के बावजूद शिक्षक अपनी स्तर से अपने सुरक्षा की स्वंय व्यवस्था कर सरकार का सहयोग करते रहे लेकिन स्थिति सामान्य होने के बाद भी अभी तक न तो सरकार द्वारा शिक्षकों की लम्बित मांग सेवा शर्त व वेतनमान बढ़ोतरी की घोषणा की गई और न ही समन्वय समिति के सदस्यों को बुलाकर इस संदर्भ में कोई वार्ता की गई । इससे शिक्षकों में रोष व्याप्त है।

इसी संदर्भ में आज टीईटी शिक्षक संघ सिवान की बैठक गांधी मैदान सिवान में आयोजित किया गया जिसकी अध्यक्षता संघ के अध्यक्ष रजनीश कुमार मिश्र ने की। बैठक को सम्बोधित करते हुए संघ के अध्यक्ष श्री मिश्र ने कहा कि सरकार द्वारा अभी तक वार्ता के लिए शिक्षक संघों को न बुलाना उनकी दोहरी मानसिकता को परिलक्षित करता है। सरकार द्वारा शिक्षकों की सेवा सुधार हेतु आज से पांच वर्ष पूर्व कमेटी गठित कर तीन माह के अंदर शिक्षकों के लिए सेवा शर्त बनाने की बात की थी लेकिन आज पांच वर्ष बीत जाने के बाद भी जो कमेटी तीन माह में अपनी रिपोर्ट देने वाली थी अभी तक नहीं दे पायी। इससे शिक्षकों के प्रति सरकार की कितनी संवेदनशील है यह परिलक्षित होता है। सरकार की शिक्षक विरोधी इस मानसिकता से शिक्षकों में घोर निराशा व्याप्त है। बैठक में यह तय किया गया कि पहले जिस समिति के आह्वान पर शिक्षकों द्वारा इतनी लम्बी लड़ाई गई उसको एक पत्र के माध्यम से सूचित किया जाय कि वे सरकार वार्ता के लिए दबाव बनाने का कार्य करें अन्यथा सरकार द्वारा अगर जल्द-से-जल्द समन्वय समिति के सदस्यों को बुलाकर वार्ता नही की जाती है और शिक्षकों की समस्याओं का निराकरण नही किया जाता है तो शिक्षक आगे की रणनीति तैयार करने के लिए मजबूर होंगे और इसकी जिम्मेदारी व जबावदेही सरकार की होगी। शिक्षक सरकार सभी कार्यों को अपनी जिम्मेदारी समझ कर पूरी तन्मयता व निष्ठा के साथ पूर्ण करने का कार्य करते हैं लेकिन शिक्षकों के सरकार की मानसिकता निराशाजनक है ।

बैठक में जिला महासचिव श्रीकांत सिंह, रविकांत उपाध्याय, चंदन दुबे, राजीव सिंह, उमेश कुमार, प्रताप कुमार, कन्हैया कुमार, मनु राय, कृष्णानंद पाण्डेय, सुधाकर मणि त्रिपाठी, विजय कुमार, प्रशांत कुमार आदि उपस्थित रहे।

Facebook Comments
siwan news

About admin

Check Also

प्राउड नेशन का बिहार में 5 लाख मास्क बांटने का लक्ष्य पूरा हुआ

अमित/सिवान : वैश्विक महामारी कोरोना के जंग में मास्क सेनेटाइजर और दो गज की दूरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: