Breaking News

         

Home / मनोरंजन / कुछ बिहारियों के वजह से बिहार का नाम खराब होता है:- अभिनव ठाकुर (फ़िल्म निर्देशक)

कुछ बिहारियों के वजह से बिहार का नाम खराब होता है:- अभिनव ठाकुर (फ़िल्म निर्देशक)

फ़िल्म लिपस्टिक बॉय के बारे मे बताइये
लिपस्टिक बॉय फ़िल्म बिहार के फोक डांस लौंडा नाच पर आधारित है फ़िल्म मे हमने लौंडा नाच के मुद्दों को उठाया है और ये फ़िल्म बिहार के फोक डांसर कुमार उदय सिंह के जीवन से प्रेरित है. जो पिछले बीस साल से लौंडा नाच करते आ रहे है, और इस फ़िल्म मे बिहार के सारे लौंडा कलाकारों की जीवनी देखने को मिलेगी, और अगर मै गलत नहीं हु तो इस फ़िल्म मे पहली बार सारे लौंडा कलाकरो को एक साथ देखने को मिलेगा क्योंकी बिहार के सारे लौंडा डांसर इसमें काम किये है, इस फ़िल्म मे कुमार उदय सिंह की भूमिका मनोज पटेल कर रहे है जो वो खुद भी लौंडा नाच कर चुके है.

बिहार के इतने सारे मुद्दों मे से इसी मुद्दे को क्यों चुना अपने
मेरे हिसाब से मै एक कलाकार हु तो मुझे एक कलाकार का मुद्दा उठाना ज़्यदा अच्छा लगा, बाकी और मुद्दों मे से ये बहुत ही जरुरी लगा क्योंकी, बिहार झारखण्ड,उत्तर-प्रदेश , मध्य-प्रदेश इन सभी जगहों से लौंडा नाच बिलुप्त होते जा रहा है , और कोई इंसान पिछले 20 साल से ये परम्परा को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहा (कुमार उदय सिंह) तो ये मुद्दा भी बिहार का एक मुद्दा ही है.


इसलिए मै इस फ़िल्म के माध्यम से सारे लौंडा नाच के कलाकरो की जिंदगी को दिखाना चाहता हु, की वो किस तरह और कितनी सारी कठिनाइयों से लड़ कर अपने नाच को और अपने अंदर के कलाकर को जिन्दा रखते है और बाकी रही और मुद्दों का तो उसके लिए बहुत समय है कभी कभी तो करेंगे ही(हॅसते हुए)

लिपस्टिक बॉय फ़िल्म बनाने का प्लान कहाँ से आया

मुझे याद है कि मेरी 2016 कुमार उदय सिंह जी से मुलाकात हुई और उन्होंने अपने बारे में मुझे बताया था तब मैं अपने एक शॉर्ट फिल्म के सिलसिले में बिहार आया था और तब हम लोग इस पर काफी दिनों तक चर्चा करते रहे और फिर मैंने इस पर रिसर्च करनी शुरू कर दी फिर 2017 में मैंने प्लान किया कि इस पर फिल्म बनाई जा सकती है और इस डांस के बारे में दुनिया को बताई जा सकती है

इस फ़िल्म को बनाने मे रिस्क नहीं लगा की जहाँ एक तरफ लोग कमर्शियल फिल्मो के तरफ झुक रहे है दूसरी तरफ ये फ़िल्म लोग पसंद करेंगे या नहीं

मेरे हिसाब से फिल्म फिल्म होती है और रिस्क कैसा अगर कोई भी काम दिल से की जाए तो.
क्योंकि इस फिल्म में पूरे कास्ट एंड क्रु ने दिल से मेहनत की है और लोग इस फिल्म को पसंद करेंगे क्योंकि इस तरह की विषय पर पहले कभी काम नहीं हुई और फिल्म को पूरे कमर्शियल फ़िल्म की तरह बनाया गया है वह चाहे मेकिंग हो या सॉन्ग सिलेक्शन हो.
हमने ये pan india Audition के लिए किया है और यह फिल्म हर तरह के ऑडियंस के लिए है
और मेरा मानना है हर फिल्म की अपनी एक ऑडियंस होती है.

इस फ़िल्म मे कहा के कलाकार काम किये है क्या कोई बॉम्बे से भी है.

इस फिल्म में सारे बिहार के कलाकारों ने काम किया है क्योंकि जब मैंने इस फिल्म की कहानी लिखी थी तभी मैंने सोच लिया था की मै इस फ़िल्म मे बिहार के कलाकार के साथ ही काम करूंगा इस फिल्म में टेक्निकल डिपार्टमेंट और पूरा का पूरा प्रोडक्शन पोस्ट प्रोडक्शन मुंबई में हो रहा है सिर्फ आर्टिस्ट बिहार के हैं और सभी लोगों ने अच्छा काम किया है.

बिहार मे फ़िल्म करने का एक्सपीरियंस बताइये

(हंसते हुए) ऐसा है की मैंने इससे पहले दिल्ली, इलाहाबाद, सूरत में भी अपनी फिल्म की शूटिंग की है लेकिन मेरा जो एक्सपीरियंस बिहार में हुआ और कहीं नहीं हुआ दरसल मैं यह कहना चाहता हूं कि मेरे एक्सपीरियंस बिहार मे अच्छे भी रहे और बुरे भी.
बस यहां प्रोफेशनलिज्म की कमी है जो मैंने देखा, और मैं अपनी फिल्म का एक ही डायलॉग बोलना चाहूंगा कि

(“बिहार को खराब करने वाले कुछ बिहारी ही है”)

जैसा की आपने बताया फ़िल्म यहाँ के फोक पे है तो क्या बिहार सरकार के तरफ से कोई मदद मिली आपको

जी बिल्कुल काफी लोगों ने मदद किया और सबसे ज़्यदा श्रीं प्रमोद कुमार सर जो बिहार के काला संस्कृति मंत्री है उन्होंने काफी मदद किया जहाँ पे मै शूटिंग कर रहा था वहां के लोकल पुलिस ऑफिसर ने भी काफी मदद की.
सरकार के तरफ से काफी मदद मिली मुझे.

फ़िल्म कब रिलीज होंगी और क्या इसे आप सिनेमाघर मे रिलीज करेंगे या डिजिटल चुकी कोरोना वायरस के वजह से बड़ी बड़ी फिल्मे डिजिटल ही आ रहे है

अभी तक प्रोडक्शन हाउस से मुझे कोई अपडेट नहीं मिली है लेकिन मैं चाहूंगा कि फिल्म सिनेमा घर में ही रिलीज हो.
अभी तो काम हो रहा है फाइनल आउटपुट पर, देखिए क्या होता है Hope for the best की सबकुछ जल्द से जल्द खतम हो जाए. ऐसा कुछ होगा तो अपडेट जल्द होगा.
आपकी आने वाले कौन कौन से प्रोजेक्ट्स होंगे

जी अभी स्क्रिप्टिंग पर काम चल रही है और आने वाली फिल्म के बारे में बात कर रहे हैं तो The Lipstic Boy और Victims है

आप अपनी कुछ उपलब्धियों के बारे मे बताइये.

मैं ग्रेजुएट हूं फिल्म मेकिंग में साथी मैंने न्यूयॉर्क फिल्म अकादमी से स्क्रिप्टिंग का कोर्स किया हुआ है मैंने अभी तक 28 शॉर्ट फिल्म तीन एड फिल्म, दो फीचर मूवी, साथ ही 2015 में मिर्ची म्यूजिक अवार्ड को भी डायरेक्ट किया है डिजिटल प्लेटफॉर्म के लिए.
2016 में मुझे मेरे शॉर्ट फिल्म दहलीज के लिए जो 7 शहरो में दिखाया गया था उसके लिए अप्रिशिएसन अवार्ड मिल चुका है.
2017-18 में मेरी शॉर्ट फिल्म film fare Award के लिए नॉमिनेट हुआ था और काफी सारे हैं., लेकिन मै इन सबको बताने में ध्यान देना नहीं चाहता हूं, मेरा मानना है कि इंसान को अपना अच्छा काम करते रहना चाहिए उपलब्धियां खुद-ब-खुद मिलते रहेंगे.

Facebook Comments
siwan news

About admin

Check Also

बॉलीवुड को एक और झटका कोरियोग्राफर सरोज खान जी का निधन

मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन हो गया है। सांस लेने में शिकायत के बाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: