Breaking News

         

Home / सिवान / दुष्कर्म की नीयत से अपहरण मामले में 10 वर्ष बाद आया फैसला, अभियुक्त को तीन साल की सजा

दुष्कर्म की नीयत से अपहरण मामले में 10 वर्ष बाद आया फैसला, अभियुक्त को तीन साल की सजा

सिवान :  फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वितीय सरोज कुमार श्रीवास्तव की अदालत ने शनिवार को दुष्कर्म की नीयत से लड़की के अपहरण के मामले में अभियुक्त उपेंद्र गिरि को दोषी पाते हुए तीन वर्ष कारावास दी है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुफस्सिल थाना अंतर्गत एक गांव के बैंक मैनेजर की गाड़ी मुफस्सिल थाना के ही भादा निवासी उपेंद्र गिरि चलाया करता था। मालिक और ड्राइवर का संबंध होने की वजह से वह घर का विश्वासी था तथा बैंक मैनेजर की पुत्री से उसकी नजदीकी हो गई थी। इसी क्रम में 27 सितंबर 2009 को दर्जी के यहां कपड़ा सीलने की बात कह कर उपेंद्र गिरि और युवती घर से निकले कितु शाम तक जब वापस नहीं आए तो लड़की के पिता ने खोजबीन के पश्चात उपेंद्र गिरि एवं रामानंद गिरि के विरुद्ध दुष्कर्म की नीयत से अपहरण को लेकर प्राथमिकी दर्ज कराई। पुलिस के दबाव को देखते हुए अपहरण के 28 दिन बाद अभियुक्त युवती को एकमा स्टेशन छोड़कर फरार हो गया।

अदालत में बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता शिवनाथ सिंह ने सजा के बिदु पर बहस करते हुए दलील दी कि
उपेंद्र गिरि मामले में प्रथम दृष्टया दोषी था, इसलिए दुर्भावना एवं दबाव बनाने के उद्देश्य से अभिभावक रामानंद गिरि को भी नामजद कर दिया गया।  रामानंद गिरि के विरुद्ध मामले में न तो कोई साक्ष्य है और ना ही वह अपहरण में शामिल थे। इसलिए रामानंद गिरि को रिहा कर दिया जाना चाहिए। पुन: उन्होंने बहस करते हुए कहा कि उपेंद्र गिरि गंभीर रोग से ग्रसित है। इसलिए उसकी स्थिति को देखते हुए भी सजा को न्यूनतम निर्धारित की जाए। अदालत अधिवक्ता के दलील से सहमत होते हुए तथा संदेह का लाभ देते हुए दूसरे अभियुक्त रामानंद गिरि को रिहा करने का आदेश दिया,जबकि गंभीर बीमारी की स्थिति को ध्यान में रखकर अभियुक्त को उपरोक्त सजा दी है। अभियोजन की ओर से मामले में अपर लोक अभियोजक रघुवर सिंह ने बहस की।

Facebook Comments
siwan news

About admin

Check Also

रविवार को सिवान की दुकाने रहेंगी बंद, डीएम ने जारी किया नया आदेश

अमित/सिवान : बिहार में 6 सितंबर तक सरकार द्वारा लॉक डाउन की अवधि बढ़ा दी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: