Breaking News

         

Home / सिवान / सिवान / 153वीं जयंती पर याद आए कौमी एकता के प्रतीक मौलाना मजहरुल हक

153वीं जयंती पर याद आए कौमी एकता के प्रतीक मौलाना मजहरुल हक

सिवान :  हुसैनगंज प्रखंड के फरीदपुर गांव में महान स्वतंत्रता सेनानी एवं बैरिस्टर मौलाना मजहरुल हक साहेब की 153वीं जयंती राजकीय उत्सव के रूप में मनाई गई। सर्व प्रथम कुरानखानी किया गया, उसके बाद प्रभारी मंत्री सह कला, संस्कृति एवं युवा मंत्री प्रमोद कुमार, जिलाधिकारी रंजिता, एसपी नवीनचंद्र झा, सदर एसडीओ संजीव कुमार एवं मौलाना साहब के पोता अब्दुल्लाह फारुकी समेत अन्य पदाधिकारियों द्वारा मौलाना साहब के मजार पर चादरपोशी की गई। साथ हीं उनके दोनो पुत्रों के मजार पर भी चादरपोशी की गई। तत्पश्चात फतया पढ़ाया गया। उपस्थित गणमान्य लोगों व प्रशासनिक अधिकारियों ने मौलाना मजहरुल हक साहब की जीवनी व स्वतंत्रता में उनके अविस्मरणीय योगदान को सराहा।

समारोह को संबोधित करते हुए प्रभारी मंत्री सह कला, संस्कृति एवं युवा मंत्री प्रमोद कुमार ने मौलाना साहब की राजनीतिक एवं आजादी की लड़ाई में किए गए कार्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि मौलाना साहब के पदचिह्नों पर चलना ही सच्ची श्रद्धांजलि है। प्रभारी मंत्री ने मौलाना साहब को महान स्वतंत्रता सेनानी बताते हुए उन्हें आपसी एकता व शांति का प्रतीक बताया। उन्होंने चंपारण सत्याग्रह के दौरान मौलाना साहब की भूमिका पर भी प्रकाश डाला और उन्हें हिदू-मुस्लिम सछ्वावना के लिए मिसाल कायम करने वाला कहा। पिछली सरकारों पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि आजादी के 70 सालों में पिछली सरकार ने कुछ नहीं किया जितना अभी की सरकार ने 20 साल में अपने देशवासियों के लिए किया। महिलाओं, बच्चों के विकास के लिए जो सपना मौलाना साहब ने देखी थी उनको अभी की मौजूदा सरकार पूरा कर रही है। उन्होंने 19 जनवरी को जल जीवन हरियाली और दहेज उन्मूलन को लेकर प्रदेश में 350 किलोमीटर लंबा मानव श्रृंखला को सफल बनाने का आह्वान किया। काबीना मंत्री अवध बिहारी चौधरी ने उनकी जीवनी पर  प्रकाश डालते हुए बताया कि मौलाना साहब के जमाने में पंडित मोतीलाल नेहरू सहित डॉ. राजेंद्र प्रसाद, महात्मा गांधी से लेकर कांग्रेस के बड़े-बड़े नेता उनके घर आशियाना में पधार चुके हैं। इस दौरान कई जनप्रतिनिधियों ने उनके मजार पर चादरपोशी तथा पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी तथा आदर्शों को आत्मसात करने पर बल दिया।

मौलाना साहब के पोते अब्दुल्ला फारुकी ने रोष व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार जयंती पर ही मौलाना मजहरुल हक साहब को याद करती है तथा तरह-तरह की वादे पूरी करने का आश्वासन देती है। इसके बाद भूल जाती है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा घोषित अब तक कोई भी वायदा पूरा नहीं किया गया। मंच संचालन प्रो. असरार अहमद ने किया। इस मौके पर स्थानीय विधायक हरिशंकर यादव, राजद जिलाध्यक्ष परमात्मा राम, लीलावती गिरि, बबलू अंसारी, ओसिहर यादव, हरेंद्र सिंह पटेल, परवेज आलम, शिव शंकर यादव, रिजवान अहमद, जियाउल हक, ओम प्रकाश यादव, चंद्रभान यादव, बीडीओ मनीषा प्रसाद, सीओ सिद्धनाथ सिंह, प्रखंड प्रमुख राजाराम साह, जदयू के जिलाध्यक्ष इंद्रदेव सिंह पटेल, भजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष मनोज कुमार सिंह, अवधेश मिश्रा एवं सामाजिक कार्यकर्ता मलीह अहमद खान, आंदर सीओ रामेश्वर राम, थानाध्यक्ष कैप्टन शाहनवाज आलम, हुसैनगंज थानाध्यक्ष श्रीकांत तिवारी, सब इंस्पेक्टर पंकज कुमार, दिनेश कुमार सिंह, रामदेव विचार मंच के जिलाध्यक्ष अभिषेक कुमार सिंह, युवा नेता मो. अलसउद अहमद, नूर आलम, अमित सिंह, मो. जैद रजा, नागेंद्र पासवान, अरविद गुप्ता, बाबूलाल चौधरी, कृति नारायण, अरविद सिंह, गोल्डेन शाही, सपा के कपिलदेव चौधरी, युवा संघर्ष मोर्चा के संयोजक सलीम सिद्दीकी पिकू, भाजपा नेता देवेंद्र गुप्ता, भाजपा मंडल अध्यक्ष विजय चौधरी, मो. इरफानुल्लाह, आसिफ अली, मो. सलमान, मेराज अहमद, अलसउद अहमद एसआई जहांगीर खान दलबल के साथ उपस्थित थे।

विभिन्न विभागों के लगाए गए थे स्टॉल :

मौलाना मजहरुल हक साहब की जयंती पर मनरेगा, बाल विकास परियोजना, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, शिक्षा विभाग, जीविका एवं मलवरी प्रसार सह प्रशिक्षण का स्टॉल प्रमुख रूप से लगाया गया था। साथ ही तीन विद्यालय के एक हजार विद्यार्थियों ने कड़ाके की सर्दी में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। चादरपोशी के बाद डीएम व एसपी ने विभिन्न स्टॉलों का निरीक्षण किया। समारोह में स्कूली बच्चों ने स्वागत गीत प्रस्तुत कर मंत्री व अन्य आए अतिथियों का स्वागत किया।

Facebook Comments
siwan news

About admin

Check Also

कोरोना को लेकर बिहार में सभी शिक्षण संस्थानों 12 अप्रैल तक बंद

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप का बड़ा फैसला, 4 अप्रैल से लेकर …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: