Breaking News

         

Home / सिवान / सिवान / नवरात्र के नवमी को मां विंध्यासिनी की पूजा-अर्चना करेंगे सीवान के श्रद्वालु, छह अक्टूबर को होगी जत्था रवाना

नवरात्र के नवमी को मां विंध्यासिनी की पूजा-अर्चना करेंगे सीवान के श्रद्वालु, छह अक्टूबर को होगी जत्था रवाना


सीवान। श्रीमाता वैष्णों देवी दर्शन समिति सीवान के तत्वावधान में श्रद्वालुओं का जत्था शारदीय नवरात्र में नवमी के दिन मां विंध्यासिनी देवी का दर्शन और पूजा- अर्चना करेंगे। इसके लिए श्रद्वालुओं का जत्था 6 अक्टूबर की शाम में विंध्याचल के लिए रवाना हाेगा। सीवान से ट्रेन से श्रद्वालु रवाना होंगे और पूजा अर्चना के बाद सीवान लौटेंगे। यात्रा के लिए शहर के लक्ष्मीपुर स्थित ऑफिस में बैठक हुई। इसमें तैयारी पर चर्चा की गई। बैठक की अध्यक्षता समिति के अध्यक्ष डॉ. केपी सिंह ने की। समिति के संयोजक मिथिलेश कुमार सिंह ने बताया कि मां विंध्यासिनी देवी की पूजा अर्चना करने के बाद श्रद्वालु वाराणसी आएंगे। यहां पर शाम में गंगा आरती में शामिल होंगे। उन्होने बताया कि मां विंध्यासीनी देवी की पूजा- अर्चना करने श्रद्वालुअों की टीम प्रत्येक साल शारदीय नवरात्र में जाती है।

उन्होने कहा कि मां विंध्यासिनी देवी की आराधना करने से श्रद्वालुओं को शक्ति मिलती है। साथ ही श्रद्वालु उन्नति की ओर भी अग्रसर होते है। सच्चे मन से माता की आराधना करने से श्रद्वालुओं की मनोकामनाएं भी पूरी होती है। इस मौके पर समिति के मार्गदर्शक अरविंद कुमार पांडेय ने कहा कि समिति विभिन्न धार्मिक स्थलों पर प्रत्येक साल पूजा-अर्चना करने जाती है। इस तरह इस समिति के माध्यम से हर हाल कई नए श्रद्वालु भी धार्मिक स्थलों पर पूर्जा-अर्चना करने जाते है। इसमें अन्य सदस्यों ने बताया कि समिति का उद्वेश्य है कि अधिक से अधिक लोगों को इस तरह के यात्रा में शामिल कर धर्म के प्रति लोगों को जागरुक किया जाएं। इस मौके पर यात्रा प्रभारी अभिषेक सोलंकी, अभिषेक कुमार, प्रेम कुमार सिंह, मुन्ना कुमार, प्रशांत कुमार, महाराणा प्रताप सिंह, शम्भूनाथ सिंह, विवेक कुमार आदि माैजूद थे।

Facebook Comments
siwan news

About admin

Check Also

पटना में बाढ़ पीड़ितों के सहायता के लिए डॉक्टरों की टीम सीवान से हुई रवाना।

A team of doctors left Siwan to assist the flood victims in Patna.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!