Breaking News

         

Home / बिहार / सरकारी शिक्षक बनने के लिए बीएड अनिवार्य नहीं, NCTE ITP कोर्स को दी मान्यता

सरकारी शिक्षक बनने के लिए बीएड अनिवार्य नहीं, NCTE ITP कोर्स को दी मान्यता

सरकारी स्कूल में अध्यापक बनना चाहते हैं तो अब या डीएलएड जैसे कोर्स करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने दो नए कोर्स लॉन्च किए हैं। इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशन प्रोगाम (आईटीईपी) कोर्स चार साल का होगा।

एनसीटीई ने एक नोटिफिकेशन जारी कर सत्र 2019-23 के लिए आईटीईपी कोर्स संचालित करने के इच्छुक शिक्षण संस्थानों से ऑनलाइन आवेदन मंगाए हैं। संस्थान तीन से 31 दिसंबर तक आवेदन कर सकते हैं। अब तक प्री प्राइमरी से प्राइमरी स्तर तक की कक्षाओं में पढ़ाने के लिए डीएलएड जरूरी था। वहीं, अपर प्राइमरी से सेकेंडरी स्तर के स्कूलों में अध्यापन के लिए बीएड अनिवार्य था।

मगर एनसीटीई चार वर्षीय इंटिग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम (आईटीईपी) शुरू करने जा रहा है। इसका मतलब यह है कि प्राइमरी या फिर अपर प्राइमरी व इंटर में पढ़ाने के लिए अभ्यर्थियों को अब बीटीसी, डीएसएड या फिर बीएड का कोर्स नहीं करना पड़ेगा। अगर कैंडिडेट ने चार साल का इंटीग्रेटेड टीचर एजूकेशन प्रोग्राम पूरा कर लिया है तो उसके लिए टीईटी, एसटीईटी या स्टेट लेवल के अन्य टेस्ट क्लियर करके टीचर बनने का रास्ता साफ हो जाएगा।

Facebook Comments

About Lav pratap

Check Also

अगलगी में तीन झोपड़ियां जली, लाखों की संपत्ति नष्ट

तरवारा (सिवान) : जीबी नगर थाना क्षेत्र के चौकी हसन पंचायत के अलावल टोला गांव …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!