Breaking News

         

Home / सिवान / आंदर / महिला सिपाही सविता का शव पहुंचा उनके गांव, ग्रामीणों और परिजनों ने शव उतारने से किया इनकार।

महिला सिपाही सविता का शव पहुंचा उनके गांव, ग्रामीणों और परिजनों ने शव उतारने से किया इनकार।

जिले के आंदर थाना क्षेत्र के हुजहूजीपुर निवासी महिला सिपाही सविता कुमारी पाठक का शव शुक्रवार की देर रात 11 बजे उनके पैतृक गांव पहुंचा। लेकिन परिजनों ने शव उतारने से इनकार कर दिया। जिसके बाद से शव लेकर आई बिहार पुलिस की पुलिस की टुकड़ी उनके घर के बाहर ही मौजूद है। परिजन और ग्रामीण वरीय पुलिस पदाधिकारी को बुलाने की मांग रहे है। वहीं परिजनों की मांग है कि सविता की मौत प्रशासनिक लापरवाही से हुई है जिसके लिए उन्हें मुआवजा मिलना चाहिए और परिवार के किसी एक सदस्य को नौकरी भी उसके बाद ही सविता का अंतिम संस्कार होगा।

 

पटना में तैनात थी सविता, डेंगू के बाद भी नहीं मिल रही थी छुट्टी 

आपको बतादें महिला सिपाही सविता पाठक पटना में तैनात थी। वही पिछले कुछ दिनों से वो डेंगू से ग्रसित थी जिसके बावजूद भी उनके वरीय पुलिस पदाधिकारी द्वारा छुट्टी नही दिया जा रहा था। जिसके बाद सविता की मौत हो गई।

साथी महिला सिपाही सविता कुमारी पाठक की मौत से नाराज महिला व पुरुष रंगरूटों ने पटना के लोदीपुर पुलिस लाइन में जमकर बवाल काटा। शुक्रवार की सुबह गुस्साए रंगरूटों ने एसपी ग्रामीण, लाइन डीएसपी समेत कई थानेदारों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा।

यही नहीं, पुलिस लाइन में जमकर तोड़फोड़ की और कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर पलट दिया। बाद में लाइन के बाहर स्थित मंदिर में लगे सीसीटीवी कैमरे को तोड़ा तो लोदीपुर के स्थानीय लोगों और पुलिसकर्मियों में जमकर पथराव हुआ। इस तरह पांच घंटे तक लोदीपुर रणक्षेत्र बना रहा।

दरअसल, साथी रंगरूटों ने आरोप लगाया कि डेंगू होने के बावजूद सीवान निवासी सविता कुमारी पाठक को छुट्टी नहीं दी गई। बीमारी में भी ड्यूटी कराई गई, जिससे उसकी मौत हो गई। यही आरोप लगाकर आक्रोशित महिला रंगरूटों ने सबसे पहले पुलिस लाइन के डीएसपी मो. मसलेहउद्दीन को टारगेट किया। सभी उनके घर में घुसकर हंगामा करने लगे। यह देख लाइन डीएसपी अपने दफ्तर में गए और सिपाहियों को समझाने की कोशिश की।

अभी वे दफ्तर में ही थे तभी सैकड़ों रंगरूट वहां आ धमके और वहां तोड़फोड़ शुरू कर दी। कार्यालय में रखे टीवी, फर्नीचर और शीशे तोड़ डाले। यह देख लाइन डीएसपी पीछे हटने लगे, लेकिन सिपाहियों ने उन्हें घेर लिया और लाठी-डंडे पीटने लगे। बीचबचाव में लाइन डीएसपी के बॉडीगार्ड उमेश व अन्य लोग भी जख्मी हो गए। डीएसपी ने किसी तरह भागकर अपनी जान बचायी। इसके बाद रंगरूट लाइन स्थित सार्जेंट मेजर आशीष सिंह के घर में घुस गए और तोड़फोड़ की। साथ ही उनके परिजनों से भी अभद्रता की। इसके अलावा कैंपस में खड़ीं आठ गाड़ियों को क्षतिग्रस्त कर दिया।

Facebook Comments
siwan news

About admin

Check Also

खाक छानती रह गई पुलिस, ओपी से महज 300 मीटर की दूरी पर दिनदहाड़े फायरिंग

महादेवा ओपी का क्षेत्र इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है। यहां अपराधियों के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!